हज़ार राहें मूड के देखी

किशोरदा और लताजी का बेनमून नज़राना पेश-ए – खिदमत है….
प्रकाश सोनी,निकिता शाह और जतिन का एक ओर नज़राना..

हज़ार राहें मूड के देखी, कही से कोई सदा ना आई
बड़ी वफ़ा से निभाई तुम ने हमारी थोड़ी सी बेवफ़ाई

१) जहा से तुम मोड़ मूड गये थे-२
वो मोड़ अब भी वही पड़े है
हम अपने पैरों मे जाने कितने-२
भवर लपेटे खड़े है..
…बड़ी वफ़ा से…

२) कही किसी रोज़ यूँ भी होता ,
हमारी हालत तुम्हारी होती,
जो रात हमने गुज़ारी मरके,
वो रात तुमने गुज़री होती..
…बड़ी वफ़ा से…

३) तुम्हे यह ज़िद थी के हम बुलाते,
हमे यह उम्मीद वो पुकारे,
है नाम होटो पे अब भी लेकिन,
आवाज़ मे पड़ गयी दरारें..
…बड़ी वफ़ा से…

!! इति !!


“दिल है की मानता नहीं….”

प्यारे दोस्तों..फिर से लाए है एक और जबदस्त गाना जो फिल्म “दिल है की मानता नहीं” से लिया गया है..यह गाना कुमार सानूजी ने और अनुराधाजी पौंडवाल ने गया था..आमिर ख़ान और पूजा भट्ट पर फिल्माया गया था..इस गाने मे मेरा साथ दिया है निकिता शाह ने और इस गाने को अपनी जबरदस्त तकनीकी खशियात दिखाई है जतिन ने..उन दोनो का मैं टे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ!
मेरा विश्वास है आप को ज़रूर पसंद आएगा!
तो लीजिए आप की सेवा मे समर्पित है….




“दिल है की मानता नहीं….”

दिल है की मानता नहीं..२
मुश्किल बड़ी है रस्मे मोहब्बत, यह जनता नहीं..
… दिल है की मानता नहीं..

१) दिल तो यह चाहे, हर पल तूमे हम बस यूही देखा करें,
मरके कभी ना हम तुम जुदा हो,आओ  कुछ ऐसा करें,
मुज मे समा जा आ पास आजा, हमदम मेरे हम नशि..
… दिल है की मानता नही..

२) तेरी वफ़ाए, तेरी महोबत, सब कुछ है मेरे लिए..
तूने दिया है नज़राना दिल को, हमतो है तेरे लिए,
यह बात सच है सब जानते है,तुम को भी यह यकीन..
दिल है की मानता नहीं, मुश्किल बड़ी है रस्मे महोबत यह जनता नहीं..
… दिल है की मानता नहीं..

!! इति !!

“आप की आँखों मे कुछ..”

प्यार के बिना जीवन शून्य है यह बात हम सब जानते है… मगर गृहस्थ जीवन मे कदम रखने के बाद अपने हमसफ़र के साथ नये जीवन की शुरुआत क्या खूब रहती है…वो प्यार यहा पर हूबहू इस गाने मे नज़र आता है…फिल्म “घर” से लिया गया यह गाना किशोर कुमारजी और लताजी ने बखूबी गया है..जो आपके लिए पेश -ए – खिदमत करता हूँ..
मैं प्रिय निकिता जिन्हो ने मेरा साथ दिया गाने मे,उनका बहुत ही शुक्रिया अदा करता हूँ..उनकी आवाज़ मे एक अलग ही कशिश है जो सुनने वालो को ज़रूर पसंद आएगी!
मेरे प्रिय मित्र जतिन , जो लंडन मे रहते है उन्होने अपनी तकनीकी कलाकारी दिखाकर गाने को और भी सुंदर बनाया है…मैं श्री जतिन का
तेह दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ!!

“आप की आँखों मे कुछ..”

आप की आँखों मे कुछ महके हुए से राज़ है
आप से भी खूब सूरत आप के अंदाज़ है….
…आप की आँखों मे कुछ..

१) लब हीले तो मोगरे के फूल खिलते है कही-२
आप की आँखों मे क्या साहिल भी मिलते है कही
आप की खामोशिया ही आप की आवाज़ है..
… आप की आँखों मे कुछ..

२) आप की बातों मे फिर कोई शरारत तो नही-२
बेवजह तारीफ करना आप की आदत तो नहीं..
आप की बदमाशियो के यह नये अंदाज़ है…
आप की आँखों मे कुछ, महके हुए से राज़ है,
आप से भी खूब सूरत आप के अंदाज़ है…
… आप की आँखों मे….

!! इति !!

“મારા ઘટ મા વિરાજતા શ્રીનાથજી….

આવ્યો પ્રભુ ભક્તિ નો રુડો અવસર…ચાલો ભાવ અને ભક્તિપૂર્ણ આ ભજન થી શ્રીજીબાવા ને રીજવવાનો પ્રયાસ કરિયે.. ઈશ્વર ની સમીપ જવાનો પ્રયત્ન કરિયે… ભાવ અને શ્રદ્ધા થી…બોલો જય શ્રી કૃષ્ણ…

556128_339541912766119_1580081392_n

“મારા ઘટ મા વિરાજતા શ્રીનાથજી….”
મારા ઘટ મા વિરાજતા શ્રીનાથજી, યમુનાજી, મહાપ્રભુજી-૨
મારૂ મનડુ છે ગોકુળ વનરાવન્, મારા તન ના આંગણીયા મા તુલસી ના વન મારા પ્રાણ જીવન ,
…….મારા ઘટ મા…
૧) મારા આતમ ના આંગણે શ્રી મહાકૃષ્ણ જી-૨
મારી આઁખોં દીસે ગિરધારી રે ગિરધારી,
મારૂ તન મંન ગયુ છે જેને વારી રે વારી, મારા શ્યામ મોરારી..
……મારા ઘટ મા….

૨) મારા પ્રાણ થકી મને વૈષ્ણવ વ્હાલા-૨
નિત કરતા શ્રીનાથજી ને કાલા ને વાલા,
મે તો વલ્લભ પ્રભુજી ના કીધા રે દર્શન, મારૂ મોહી લીધુ મંન..
……મારા ઘટ મા…

૩) હું તો નિત્ય વીઠલવર ની સેવા રે કરુ-૨
હૂ તો આઠેય સમાયે કેરી ઝાંખી રે કરુ,
મે તો ચિતડુ શ્રીનાથજી ની ચરણે ધર્યુ, જીવન સફળ કર્યુ..
……મારા ઘટ મા…

૪) મે તો ભક્તિ મારગ કેરો સંગ રે કર્યો,
મે  તો પુષ્ટિ મારગ કેરો સંગ રે કર્યો
મને ધોળ કિર્તન કેરો રંગ રે લાગ્યો,
મે તો લાલા ની લાળી કેરો રંગ રે માગ્યો, હીરલો હાથ લાગ્યો..
…..મારા ઘટ મા…

૫) આવો જીવન મા લ્હાવો ફરી કદી ના મળે-૨
વારે વારે માનવ દેહ કદી ના મળે,
ફેરો લાખ રે ચોરાશી નો મારો રે ફળે, મને મોહન મળે…
…..મારા ઘટ મા…

૬) મારી અંત સમય કેરી સુનો રે અરજી-૨
લેજો ચરણો મા શ્રીજી બાવા દયા રે કરી,
મને તેડા રે યમ કેરા કદી ના આવે, મારો નાથ તેડાવે…
…..મારા ઘટ મા…

મારૂ મનડુ છે ગોકુળ વનરાવન્,
મારા તન ના આંગણીયા મા તુલસી ના વન મારા પ્રાણ જીવન…
મારા ઘટ મા વિરાજતા શ્રી નાથજી યમુનાજી મહાપ્રભુજી.
!! ઈતી !!


“प्यार मे होता है क्या जादू….”

दोस्तो…फिर से  आया है प्यार का मौसम…फिर छाए है बादल… कलियाँ खिल गयी..सारी कायनात मे हरियाली छा गयी..दिल मे फिर से उम्मीदें जाग उठी.. दिल मे छुपा प्यार मस्ती मे ये गाने लगा…वाह..क्या मौसम है..झूम ने को दिल करता है..अपने प्यार के साथ इस बारिश मे भीगने को दिल करता है..यह बात सिर्फ़ प्यार करने वाले ही जान सकते है..और यह गाने को तरसते है…”प्यार मे होता है क्या जादू..”


मैं निकिता का बहुत ही आभारी हूँ जिन्होने अपनी मधुर आवाज़ दी इस गाने को और मेरे साथ ये दो गाना गाया..उनकी आवाज़ की जितनी तारीफ की जाए वो कम ही है..निकिताजी का मैं तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ!

और इसके साथ मेरे एक बहुत ही आहेम और प्रिय दोस्त  जतिनजी,जो लंडन मे रहते है, उन्होने अपना अमुल्य समय दे कर इस गाने को सुंदर कर्ण प्रिय बनाने मे अपना हिस्सा बटोरा उनका भी सदा ऋणी रहुगा..

“प्यार मे होता है क्या जादू….”

प्यार मे होता है क्या जादू, तू जाने या मैं जानू..२
रहेता नही क्यू दिल पर काबू , तू जाने या मैं जानू..
प्यार मे होता है क्या जादू, तू जाने या मैं जानू…

१) गुन गुन करता क्यू फिरता है, कोई भवरा बाग मे..२
क्यू होती है फूल मे खुश्बू , तू जाने या मैं जानू..
प्यार मे होता है क्या जादू, तू जाने या मैं जानू….

२) चाँदनी हो तो चकोरी पागल सी क्यू होती है…२
जंगल मे कोयल की कुकु, तू जाने या मैं जानू….
प्यार मे होता है क्या जादू, तू जाने या मैं जानू…

३) जैसे हरियाली और सावन, जैसे बरखा और बादल..२
तेरे लिए मैं मेरे लिए तू, तू जाने या मैं जानू..
प्यार मे होता है क्या जादू, तू जाने या मैं जानू..
रहेता नही है दिल पर काबू, तू जाने या मैं जानू..
तू जाने या, मैं जानू..तू जाने या मैं जानू..
हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ…….२

!! इति !!


इतनी शक्ति हमे देना दाता…

इतनी शक्ति हमे देना दाता…

यह मधुर गीत “इतनी शक्ति हमे देना दाता,मन का विश्वास कमज़ोर हो ना..” प्रार्थना के स्वरूप मे गाया गया है! मेरे बहुत ही निकटतम मित्र श्री दिलीपभाई गज्जरजो लेस्टर, लंडन मे रहते है उनकी ही प्रेरणा से मैने यह गीत गाया है!इस मधुर प्रार्थना स्वरूप गाने  मे भरपूर भाव और प्रभु से बीनती का दर्शन होता है! एक बालक बनकर इंसान भगवान से शक्ति की याचना करता है!आप को भी यह अनुरोध है की आप भी मेरे साथ मिलकर प्रभु से शक्ति की प्रार्थना करें!

इतनी शक्ति हमे देना दाता, मन का विश्वास कमज़ोर हो ना..२)
हम चले नेक रस्ते पे हमसे भूल कर भी कोई भूल हो ना..२)

१) दूर अज्ञान के हो अंधेरे, तू हमे ज्ञान की रोशनी दे,
हर बुराई से बचकर रहे हम,जितनी भी भले ज़िंदगी दे..
बैर हो ना किसी का किसी से, भावना मन मे बदले की हो ना,
हम चले नेक रास्ते पे हम से, भूलकर भी कोई भूल हो ना..
…इतनी शक्ति हमे दे ना दाता….

२) हम ना सोचे हमे क्या मिला है, हम यह सोचे किया क्या है अर्पण,
फूल खुशियों के बाँटे सभी को, सब का जीवन ही बन जाए मधुबन..
अपनी ममता का जल तू बहाके, कर दे पावन हरेक मन का कोना..
हम चले नेक रास्ते पे हम से, भूलकर भी कोई भूल हो ना..
…इतनी शक्ति हमे देना दाता…

!! इति !!